Man Hindola
(Paperback)

6 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹175.00 | Saved: ₹50 (29%) ₹125.00 @ Amazon Last Updated: 21-Jun-2018 05:20:54 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 1-2 business days
✅ Total 1 new items found

Related Categories

About book: निम्न-मध्यम-वर्गीय परिवेश की विषमताओं की दीवार फांद, उच्च-मध्यम वर्गीय परिवेश में सफलता का जश्न मनाते कुछ दोस्त, अपने-अपने ढ़ग से भाग-दौड़ वाली दिनचर्या से ब्रेक पाने के लिये जूझ रहे हैं। पर सभी सफलता की दौड़ में पिछड़ने के डर से एक आडम्बर ओढ़े हुये हैं। इन्हीं असमझ कोशिशों के बीच एक प्रेम-कहानी का ताना-बाना भी पनप रहा है जो समाज के नियमों से बाहर है और अस्वीकार्य भी। विनोद, नैतिकता की सीमाओं के भंवर जाल से जूझने के साथ एक किनारा भी तलाशते हैं। कभी उदासी के अंधेरों के बीच आशा की खिड़की खोल कर तो कभी उलझी भूल-भुलैया के बीच से निकलते रास्ते पर रोशनी डाल कर; कभी निराशा भरी मिडिल-ऐज के बीच किशारावस्था के छिछोरेपन के साथ, तो कभी दिल की अतुल गहराइयों से सरस संवेदनाओं को कुरेद कर। चैप्टर दर चैप्टर विनोद ने जिस तरह से शहरी और सफल जिन्दगियों के बैकग्राउन्ड में पनपती उदासियों को कहानी में उकेरा है वह पाठक को पूरी तरह बांधे रहता है। About author: कविता और साहित्य के बहुरंगी ताल में गोते लगाने वाले विनोद त्रिपाठी, कर्म से इंजीनियर और प्रशासक हैं। बचपन प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश के ग्रामीणाचंल में बीता। आई.आई.टी. रूड़की से ग्रेजुएशन करने के बाद, विनोद भारत सरकार में सेवारत हैं। अभी दिल्ली में रहते हैं।

AuthorVinod Tripathi
BindingPaperback
EAN9789386687609
EditionFirst Edition
ISBN9386687607
Height800 mm
Length600 mm
Width100 mm
Weight1 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Product GroupBook
Publication Date2018
PublisherRawat Prakashan
StudioRawat Prakashan
Sales Rank97351

Bestsellers in Indian Writing

Trending Products at this Moment

General information about Man Hindola