Main Kali
(Hindi)
(Kindle Edition)

2 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹99.00 Checkout @ Amazon Last Updated: 25-May-2018 03:03:52 am
✅ Lowest price available on Amazon

Related Categories

प्रिय पाठक!

४१ वर्ष पूर्व एक किशोर का भावुक हृदय दादी-निधन से आहत होकर औचक ही कवि-करवट ले बैठा ।
१० वर्षों तक अक्सर उनके समाधि-स्थल पर बैठकर वह उदास आँखों की अन्तः अश्रुधारा से दिल को
सहलाता रहा, किन्तु जब युवा-मन में पत्नी के आगमन की आहट हुई तो उन्मत्त तरंगों ने भावुक हृदय
को ऐसा झकझोरा कि कविता की दिशा ही उलट गई।

प्रस्तुत कविता-संग्रह 'मैं-कली', उसी युवा-हृदय की धड़कनों का प्रतिबिम्ब है जिसे पढ़कर युवक-
युवतियाँ निश्चय ही आनन्दित होंगें। एक कवि अपनी कल्पनाओं और भावनाओं को बिना किसी साज-
सज्जा के यों ही प्रकट कर दे तो वह कवि कैसा! अतः छायावाद के आवरण से 'मैं-कली' को सज्जित कर
कवि ने साहित्य-प्रेमियों और मनीषियों को लुभाने की चेष्टा की है। मनीषी अपने विवेक से देश-काल
और परिस्थिति के अनुरूप अलग-अलग अर्थ निकाल सकते हैं।

चूँकि रचना ३१ वर्ष पूर्व उदगम् पाकर कवि की मनः स्थिति से प्रभावित होते हुए कई वर्षों तक
प्रवाहित रही अतः कहीं कहीं सामाजिक कुरीतियों और भ्रामक मान्यताओं पर भी चोट कर बैठी है। इस
प्रकरण में कवि रूप में मेरा प्रयोजन किसी व्यक्ति, समाज या समुदाय विशेष को आहत करना कतई
नहीं है फिर भी यदि किसी पाठक की भावनाओं को जरा भी ठेस लगे तो मैं अग्रिम क्षमा-प्रार्थी हूँ।
उक्त पंक्तियाँ स्वयं साक्षी हैं कि प्रस्तुत रचना पूर्णतः मौलिक, अप्रकाशित और मेरे द्वारा रचित है। सभी
पाठकों से मेरा करबद्ध अनुरोध है कि वह अपनी प्रतिक्रिया से, चाहे वह प्रशंसात्मक हो या
आलोचनात्मक मुझे अवश्य अवगत करायें।
-
ऋतुदेव सिंह 'ऋतुराज'

AuthorRitudev Singh
BindingKindle Edition
FormatKindle eBook
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages70
Product GroupeBooks
Publication Date2017-12-29
Release Date2017-12-29
Sales Rank50299

Bestsellers in Poetry

Trending Products at this Moment

General information about Main Kali (Hindi) (Hindi Edition)