Kathputli
(Hindi Edition)
(Kindle Edition)

2 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹49.00 Checkout @ Amazon Last Updated: 09-Sep-2018 08:39:53 am
✅ Lowest price available on Amazon

Related Categories

"कठपुतली" प्रकाश वीर शर्मा द्वारा लिखित एवं जीवन के कटु अनुभवों पर आधारित १४ लघु और मध्यम कथाओं का संकलन है। इन लघु कथाओं में कहानीकार प्रकाश वीर शर्मा ने पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ, आम आदमी को पीड़ित और प्रताड़ित करने वाले समाज के गंदे राजनीतिक वातावरण, दोगली मानसिकता, धर्म के नाम पर फैली कुरीतियों और शिक्षा की महती आवश्यकता का सजीव और रोचक चित्रण किया है। कठपुतली की सारी कहानियां सरल और आम बोलचाल की भाषा में लिखी गयी हैं। कहानियों को रोचक और सुगम बनाये रखने के लिए जगह जगह हिंदी के साथ साथ उर्दू और अंग्रेजी के प्रचलित शब्दों को भी जोड़ा गया है। ये छोटी छोटी कहानियां नाट्य, कथा, संस्मरण, उपन्यास आदि विभिन्न विधाओं और भाषा शैली में हैं। प्रेरक होने के साथ साथ इन कहानियों की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि पाठक को कहानी के किरदार अपने घर, मोहल्ले या गांव वाले ही लगते हैं इसलिए पाठक लगभग १०० पेज की यह किताब एक ही बैठक में पढ़ने को विवश हो जाता है।
"कठपुतली" की कहानी "चक्रव्यूह" वर्तमान राजनीति की फिल्म है। हर समय हमारे साथ रहने वाले लोग किस प्रकार हमें अपने इशारों पर नचाते हैं, इसका वर्णन चक्रव्यूह में है। उपन्यास सी लगने वाली यह कहानी सन्देश देती है कि पढ़ाई लिखाई के दौरान बच्चों को पथभ्रष्ट होने से बचाने के लिए निरन्तर माँ-बाप के मार्गदर्शन की आवश्यकता है। "तरक्की का राज" अपने नाम से ही सब कुछ कह जाती है। "कर्फ्यू" नामक कहानी की तरह इसमें भी मुसलमान और जिहादी दोनों तरह के व्यक्तित्व है, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे की प्रतीक यह कहानी सीमित संसाधनों द्वारा उन्नति का सन्देश देने में पूरी तरह सफल है। राजनीति, मीडिया और वहाबी विचारधारा को बेनकाब करने में लेखक सफल रहे हैं।
"दहेज" एक तरफ समाज की बुराइयों और झठी शान-शौकत का आईना है वहीं अंत में "बहु का कन्यादान" नामक कहानी की तरह समाज में नवचेतना, नई शुरुआत के लिए प्रेरित करती है। "बहू का कन्यादान" नामक कहानी चिकित्सा संसाधनों के अभाव, इस अभाव के चलते मृत्यु और नवविवाहितों की फिजूलखर्ची के साइड इफेक्ट्स को "लाजो" की तरह चित्रित करती है। यहां बचत, सेविंग्स, मितव्ययिता के महत्व का स्पष्ट सन्देश है।
एक ही अपराध के लिए महिला और पुरुष के प्रति समाज की दोहरी मानसिकता, ढुलमुल रवैया कैसे एक महिला की जिंदगी को नरक बना देता है, "चरित्रहीन" सोचने को विवश कर देती है। नागरिक के अधिकार और कर्तव्यों के बारे में जागरूकता के उद्देश्य से "मिर्जा का दान" और "मिर्जा की मूंगफली" नामक कहानियां बहुत ही प्रेरक और संदेशात्मक है। "गुड़िया", "मजबूरी" और "दहेज" नामक कहानियां लगभग ८० प्रतिशत महिलाओं को बिल्कुल उनकी अपनी कहानी सी लगती हैं। छद्मवेषधारी नेताओं, समाजसेवियों और उनके चापलूसों पर कुठाराघात करती "समाजसेवी" और "वर्दी वाला नेता" जैसी कहानियों ने इस संकलन को सम्पूर्ण बना दिया है।
कुल मिलाकर आकर्षक कवर, त्रुटिरहित मुद्रण एवं कीमत को ध्यान में रखते हुए शब्दों की मितव्ययिता के साथ लिखी गयी बहुत ही अच्छी पुस्तक है - "कठपुतली" जो एक साथ समाज, राजनीति और धर्म से जुड़े मुद्दों पर सफलतापूर्वक मार्गदर्शन करती है।
(शिक्षाविद श्री महेश चन्द्र गुप्ता जी द्वारा लिखी गयी "कठपुतली" की समीक्षा)

पाठकों की प्रतिक्रियाएं
प्रेरणास्पद कथानक, वास्तव में आज इसी सोच और रचनात्मकता को परिणीति में बदलने की आवश्यकता है. (गंगेश्वर जोशी, बहू का कन्यादान)
बेहतरीन ! सभी की सोंच मिर्जा जैसी हो जाये तो कहना ही क्या! (ब्रज भूषण प्रसाद सिन्हा, तरक्की का राज)
मुस्लिम समाज का वास्तविक स्वरूप और तालीम की महत्ता बताती ग्यानवर्धक कहानी.... बरसो से साथ रहे लोगो को बाहरी लोग कैसे दिग्भ्रमित करते है, यह इस कहानी से परिलक्षित होता है.... (हिमांशु भट्ट, तरक्की का राज)
जिस दिन जनता ये स्टोरी समझ जाएगी , भारतीय राजनीति ठप्प समझिये। (पंकज शुक्ला, कर्फ्यू)
ज्वलन्त मुद्दे पर बेहतरीन लेखन के लिये आपका अभिनन्दन..... (मनोज चिरन्जी शर्मा, मजबूरी)
राजनीति का एमआरआई करती कहानी ! (प्रकाश शर्मा, चक्रव्यूह)

AuthorPrakash Vir Sharma
BindingKindle Edition
Edition1
FormatKindle eBook
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages106
Product GroupeBooks
Publication Date2017-06-10
PublisherPrakash Vir Sharma
Release Date2017-06-10
StudioPrakash Vir Sharma
Sales Rank14115

Bestsellers in Literature & Fiction

Trending Products at this Moment

General information about Kathputli (Hindi Edition)