Ikshvaku Ke Vanshaj
(Paperback)

5 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹325.00 | Saved: ₹23 (7%) ₹302.00 @ Amazon Last Updated: 15-Aug-2018 01:14:29 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 1-2 business days
✅ Total 52 new items found

Related Categories

लेकिन आदर्शवाद की एक कीमत होती है. उसे वह कीमत चुकानी पड़ी.

३4०० ईसापूर्व, भारत.

अलगावों से अयोध्या कमज़ोर हो चुकी थी. एक भयंकर युद्ध अपना कर वसूल रहा था. नुक्सान बहुत गहरा था. लंका का राक्षस राजा, रावण पराजित राज्यों पर अपना शासन लागू नहीं करता था. बल्कि वह वहां के व्यापार को नियंत्रित करता था. साम्राज्य से सारा धन चूस लेना उसकी नीति थी. जिससे सप्तसिंधु की प्रजा निर्धनता, अवसाद और दुराचरण में घिर गई. उन्हें किसी ऐसे नेता की ज़रूरत थी, जो उन्हें दलदल से बाहर निकाल सके.

नेता उनमें से ही कोई होना चाहिए था. कोई ऐसा जिसे वो जानते हों. एक संतप्त और निष्कासित राजकुमार. एक राजकुमार जो इस अंतराल को भर सके. एक राजकुमार जो राम कहलाए.

वह अपने देश से प्यार करते हैं. भले ही उसके वासी उन्हें प्रताड़ित करें. वह न्याय के लिए अकेले खड़े हैं. उनके भाई, उनकी सीता और वह खुद इस अंधकार के समक्ष दृढ़ हैं.

क्या राम उस लांछन से ऊपर उठ पाएंगे, जो दूसरों ने उन पर लगाए हैं ?

क्या सीता के प्रति उनका प्यार, संघर्षों में उन्हें थाम लेगा?

क्या वह उस राक्षस का खात्मा कर पाएंगे, जिसने उनका बचपन तबाह किया?

क्या वह विष्णु की नियति पर खरा उतरेंगे?

अमीश की नई सीरिज “रामचंद्र श्रृंखला” के साथ एक और ऐतिहासिक सफ़र की शुरुआत करते हैं.

To know more about Scion of Ikshvaku - Click Here

AuthorAmish Tripathi
BindingPaperback
EAN9789385152153
Edition2017
ISBN9385152157
Height118 mm
Length1142 mm
Width787 mm
Weight44 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Items1
Number Of Pages350
Package Quantity1
Product GroupBook
Publication Date2015-07-13
PublisherYatra/Westland
Release Date2015-07-13
StudioYatra/Westland
Sales Rank2746

Bestsellers in Myths, Legends & Sagas

Trending Products at this Moment

General information about Ikshvaku Ke Vanshaj Success