Arthla Sangram Sindhu Gatha - Part 1
(Paperback)

4 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹175.00 | Saved: ₹17 (10%) ₹158.00 @ Amazon Last Updated: 26-May-2018 11:08:05 pm
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 4 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Related Categories

मिट्टी से घड़े बनाने वाले मनुष्य ने हजारों वर्षों में अपना भौतिक ज्ञान बढ़ाकर उसी मिट्टी से यूरेनियम छानना भले ही सीख लिया हो, परंतु उसके मानसिक विकास की अवस्था आज भी आदिकालीन है।
काल कोई भी रहा हो– त्रेता, द्वापर या कलियुग, मनुष्य के सगुण और दुर्गुण युगों से उसके व्यवहार को संचालित करते रहे हैं।
यह गाथा किसी एक विशिष्ट नायक की नहीं, अपितु सभ्यता, संस्कृति, समाज, देश-काल, निर्माण तथा प्रलय को समेटे हुए एक संपूर्ण युग की है। वह युग, जिसमें देव, दानव, असुर एवं दैत्य जातियाँ अपने वर्चस्व पर थीं। यह वह युग था, जब देवास्त्रों और ब्रह्मास्त्रों की धमक से धरती कंपित हुआ करती थी।
शक्ति प्रदर्शन, भोग के उपकरणों को बढ़ाने, नए संसाधनों पर अधिकार तथा सर्वोच्च बनने की होड़ ने देवों, असुरों तथा अन्य जातियों के मध्य ऐसे आर्थिक संघर्ष को जन्म दिया, जिसने संपूर्ण जंबूद्वीप को कई बार देवासुर-संग्राम की ओर ढकेला। परंतु इस बार संग्राम-सिंधु की बारी थी। वह अति विनाशकारी महासंग्राम जो दस देवासुर-संग्रामों से भी अधिक विध्वंसक था।
संग्राम-सिंधु गाथा का यह खंड देव, दानव, असुर तथा अन्य जातियों के इतिहास के साथ देवों की अलौकिक देवशक्ति के मूल आधार को उदघाटित करेगा।

AuthorVivek Kumar
BindingPaperback
EAN9789384419905
EditionFirst
ISBN9384419907
LanguageHindi
Language TypePublished
Product GroupBook
Publication Date2017-11-20
PublisherHind Yugm
Release Date2017-12-26
StudioHind Yugm
Sales Rank16454

Bestsellers in Myths, Legends & Sagas

Trending Products at this Moment

General information about Arthla Sangram Sindhu Gatha - Part 1