Agni Ki Udaan
(Paperback)

6 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹150.00 | Saved: ₹44 (29%) ₹106.00 @ Amazon Last Updated: 18-Feb-2018 09:01:41 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 68 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Other considerable option:

MRP: ₹200.00 | Saved: ₹23 (11%)
₹177.00 @ Flipkart
✅ In Stock - Available for quick dispatch
✅ Cash on Delivery available

Related Categories

त्रिशूल ' के लिए मैं ऐसे व्यक्‍त‌ि की सुलाश में था जिसे न सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक्स एवं मिसाइल युद्ध की ठोस जानकारी हो बल्कि जो टीम के सदस्यों में आपसी समझ बढ़ाने के लिए पेचीदगियों को भी समझा सके और टीम का समर्थन प्राप्‍त कर सके । इसके लिए मुझे कमांडर एस.आर. मोहन उपयुक्‍त लगे, जिनमें काम को लगन के साथ करने की जादुई शक्‍त‌ि थी । कमांडर मोहन नौसेना से रक्षा शोध एवं विकास में आए थे । ' अग्नि ', जो मेरा सपना थी, के लिए किसी ऐसे व्यक्‍त‌ि की जरूरत थी जो इस परियोजना में कभी-कभी मेरे दखल को बरदाश्त कर सके । यह बात मुझे आर.एन. अग्रवाल में नजर आई । वह मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेकोलॉजी के विलक्षण छात्रों में से थे । वह डी.आर.डी.एल. में वैमानिकी परीक्षण सुविधाओं का प्रबंधन सँभाल रहे थे । तकनीकी जटिलताओं के कारण ' आकाश ' एवं ' नाग ' को तब भविष्य की मिसाइलों के रूप में तैयार करने पर विचार किया गया । इनकी गतिविधियाँ करीब आधे दशक बाद तेजी पर होने की उम्मीद थी । इसलिए मैंने ' आकाश ' के लिए प्रह्लाद और ' नाग ' के लिए एन. आर. अय्यर को चुना । दो और नौजवानो-वी.के. सारस्वत एवं ए.के. कपूर को क्रमश: सुंदरम तथा मोहन का सहायक नियुक्‍त किया गया । -इसी पुस्तक से प्रस्तुत पुस्तक डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के जीवन की ही कहानी नहीं है बल्कि यह डॉ. कलाम के स्वयं की ऊपर उठने और उनके व्यक्‍त‌िगत एवं पेशेवर संघर्षों की कहानी के साथ ' अग्नि ', ' पृथ्वी ', ' आकाश ', ' त्रिशूल ' और ' नाग ' मिसाइलों के विकास की भी कहानी है; जिसने अंतरराष्‍ट्रीय स्तर पर भारत को मिसाइल-संपन्न देश के रूप में जगह दिलाई । यह टेकोलॉजी एवं रक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने की आजाद भारत की भी कहानी है ।

AuthorA.P.J. Abdul Kalam
BindingPaperback
EAN9789351864493
Edition1
ISBN9351864499
Height51 mm
Length839 mm
Width531 mm
Weight53 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Items1
Number Of Pages196
Package Quantity1
Product GroupBook
Publication Date2016
PublisherPrabhat Prakashan
StudioPrabhat Prakashan
Sales Rank1408

Bestsellers in Biographies & Autobiographies

Trending Products at this Moment

General information about Agni Ki Udaan
  • The author associated with Agni Ki Udaan is A.P.J. Abdul Kalam.
  • The EAN for Agni Ki Udaan is 9789351864493.
  • The edition for Agni Ki Udaan is 1.
  • The ISBN for Agni Ki Udaan is 9351864499.
  • The height for Agni Ki Udaan is 51 mm.
  • The length for Agni Ki Udaan is 839 mm.
  • The width for Agni Ki Udaan is 531 mm.
  • The weight for Agni Ki Udaan is 53 g.
  • The language for Agni Ki Udaan is Hindi.
  • The binding of Agni Ki Udaan is Paperback.
  • The number of items for Agni Ki Udaan is 1.
  • The number of pages for Agni Ki Udaan are 196.
  • The quantity for Agni Ki Udaan in a package is 1.
  • Agni Ki Udaan is grouped in Book group of products.
  • The publication date for Agni Ki Udaan is 2016.
  • The publisher for Agni Ki Udaan is Prabhat Prakashan.
  • The producer for Agni Ki Udaan is Prabhat Prakashan.
  • The sales rank for Agni Ki Udaan is 1408.