Kankal
(Paperback)

4 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹165.00 | Saved: ₹12 (7%) ₹153.00 @ Amazon Last Updated: 13-Aug-2018 10:25:07 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 10 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Related Categories

जयशंकर प्रसाद बहुआयामी रचनाकार थे। जिनकी लेखन और रंगमंच दोनों पर अच्छी पकड़ थी। कवि, नाटककार, कहानीकार होने के साथ-साथ वह उच्चकोटि के उपन्यासकार भी थे। जयशंकर प्रसाद ने तीन उपन्यास लिखे, तितली, कंकाल और इरावती। अंतिम उपन्यास इरावती उनके निधन के कारण अधूरा रह गया।

कंकाल में लेखक ने हिन्दू धर्म के ठेकेदारों की सच्चाई को उद्घाटित किया है। सत्य और मोक्ष की खोज में लगे धर्म के अनुयायी कैसे अपनी वासना में खुद फँस जाते हैं और औरों को इसका शिकार बनाते हैं। धार्मिक स्थानों के बंद दरवाज़ों के पीछे काम और वासना का यह खेल कैसे लोगों को, विशेषकर मासूम और निर्दोष लड़कियों की जि़ंदगी को तबाह कर देता है, इन सबका बहुत ही मार्मिक ताना-बाना बुना गया है इस उपन्यास में।

AuthorJaishankar Prasad
BindingPaperback
EAN9789350643020
Edition2015
ISBN9350643022
Height1028 mm
Width551 mm
Weight49 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages176
Product GroupBook
Publication Date2015
PublisherRajpal & Sons (Rajpal Publishing)
StudioRajpal & Sons (Rajpal Publishing)
Sales Rank16747

Bestsellers in Literary Theory, History & Criticism

Trending Products at this Moment

General information about Kankal