Ekatma Manavvaad
(Hardcover)

5 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹250.00 | Saved: ₹0 (0%) ₹250.00 @ Amazon Last Updated: 12-Sep-2018 06:13:14 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 1-2 business days
✅ Total 7 new items found

Related Categories

दीनदयाल उपाध्याय प्रणीत एकात्म मानववाद के संदर्भ में एक चर्चा होती रहती है कि यह 'वाद' है या 'दर्शन'? 'वाद' पाश्चात्य परंपरा का वाहक है, जबकि 'दर्शन' भारतीय परंपरा का। 'एकात्म मानव' का विचार तत्त्वतः भारतीय विचार है, अतः इसे 'दर्शन' कहना चाहिए, कुछ लोगों का यह आग्रह रहता है, जो गलत नहीं है। मा. नानाजी देशमुख 'दीनदयाल शोध संस्थान' में 'दर्शन' शब्द का ही प्रयोग करते थे। यह बात ठीक होते हुए भी यह तथ्य है कि दीनदयाल उपाध्याय ने अपने बौद्धिक वर्गों में तथा 'सिद्धांत एवं नीति' प्रलेख में इसे 'एकात्म मानववाद' कहा है। मुंबई में जो उनके चार भाषण हुए, उनमें भी 'एकात्म मानववाद' शब्दपद का ही उपयोग है। पाश्चात्य चिंतन की पृष्ठभूमि में दीनदयालजी ने इस विचार का विवेचन किया है।

AuthorDeendayal Upadhyay
BindingHardcover
EAN9789350488775
Edition1
ISBN9350488779
Weight44 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Items1
Number Of Pages135
Package Quantity1
Product GroupBook
Publication Date2014-08
PublisherPrabhat Prakashan
StudioPrabhat Prakashan
Sales Rank108163

Bestsellers in Political Ideologies

Trending Products at this Moment

General information about Ekatma Manavvaad Success