Madhubala
(Hardcover)

4 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹135.00 | Saved: ₹13 (10%) ₹122.00 @ Amazon Last Updated: 26-May-2018 01:53:03 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 7 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Related Categories

अग्रणी कवि बच्चन की कविता का आरंभ तीसरे दशक के मध्य 'मधु' अथवा मदिरा के इर्द-गिर्द हुआ और 'मधुशाला' एक-एक वर्ष के अंतर से प्रकाशित हुए। ये बहुत लोकप्रिय हुए और प्रथम 'मधुशाला' ने तो धूम ही मचा दी। यह दरअसल हिन्दी साहित्य की आत्मा का ही अंग बन गई और कालजयी रचनाओं कर श्रेणी में आ खड़ी हुई है।

इन कविताओं की रचना के समय कवि की आयु 27-28 वर्ष की थी, अतः स्वाभाविक है कि ये संग्रह यौवन के रस और ज्वार से भरपूर हैं। स्वयं बच्चन ने इन सबको एक साथ पढ़ने का आग्रह किया है। कवि ने कहा है: 'आज मदिरा लाया हूं-जिसे पीकर भविष्यत् के भय भाग जाते हैं और भूतकाल के दुख दूर हो जाते हैं..., आज जीवन की मदिरा, जो हमें विवश होकर पीनी पड़ी है, कितनी कड़वी है। ले, पान कर और इस मद के उन्माद में अपने को, अपने दुख को, भूल जा।''

AuthorHarivansh Rai Bachchan
BindingHardcover
EAN9788170283560
Edition2015
ISBN8170283566
Weight53 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages96
Product GroupBook
Publication Date1997-05-24
PublisherRajpal Publishing
StudioRajpal Publishing
Sales Rank6232

Bestsellers in Poetry

Trending Products at this Moment

General information about Madhubala Success