Madhushala
(Hardcover)

3 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹125.00 | Saved: ₹3 (2%) ₹122.00 @ Amazon Last Updated: 26-May-2018 06:18:10 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 24 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Related Categories

हरिवंशराय 'बच्चन' की अमर काव्य-रचना मधुशाला 1935 से लगातार प्रकाशित होती आ रही है। सूफियाना रंगत की 135 रुबाइयों से गूँथी गई इस कविता क हर रुबाई का अंत 'मधुशाला' शब्द से होता है। पिछले आठ दशकों से कई-कई पीढि़यों के लोग इस गाते-गुनगुनाते रहे हैं। यह एक ऐसी कविता है] जिसमें हमारे आसपास का जीवन-संगीत भरपूर आध्यात्मिक ऊँचाइयों से गूँजता प्रतीत होता है।

मधुशाला का रसपान लाखों लोग अब तक कर चुके हैं और भविष्य में भी करते रहेंगे] लेकिन यह 'कविता का प्याला' कभी खाली होने वाला नहीं है, जैसा बच्चन जी ने स्वयं लिखा है-

भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला, कवि साकी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला; कभी न कण भर खाली होगा, लाख पिएँ, दो लाख पिएँ! पाठक गण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला।

AuthorHarivansh Rai Bachchan
BindingHardcover
EAN9788170283447
Edition2015
ISBN8170283442
Weight18 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages80
Package Quantity5
Product GroupBook
Publication Date1997-06-07
PublisherRajpal & Sons (Rajpal Publishing)
StudioRajpal & Sons (Rajpal Publishing)
Sales Rank483

Bestsellers in Poetry

Trending Products at this Moment

General information about Madhushala Success