Laava
(Hardcover)

3 products added to cart in last 30 minutes
MRP: ₹299.00 | Saved: ₹75 (25%) ₹224.00 @ Amazon Last Updated: 21-Jun-2018 07:58:02 am
✅ Lowest price available on Amazon
✅ Usually dispatched within 24 hours
✅ Total 16 new items found
✅ Eligible for Prime
✅ Eligible for Super Saver Shipping

Related Categories

लावा कुछ बिछड़ने के भी तरीक़े हैं खैर, जाने दो जो गया जैसे थकन से चूर पास आया था इसके गिरा सोते में मुझपर ये शजर क्यों इक खिलौना जोगी से खो गया था बचपन में ढूँढ़ता फिरा उसको वो नगर-नगर तन्हा आज वो भी बिछड़ गया हमसे चलिए, ये क़िस्सा भी तमाम हुआ ढलकी शानों से हर यक़ीं की क़बा ज़िंदगी ले रही है अंगड़ाई पुर-सुकूँ लगती है कितनी झील के पानी पे बत पैरों की बेताबियाँ पानी के अंदर देखिए बहुत आसान है पहचान इसकी अगर दुखता नहीं तो दिल नहीं है जो मंतज़िर न मिला वो तो हम हैं शर्मिंदा कि हमने देर लगा दी पलटके आने में आज फिर दिल है कुछ उदास-उदास देखिए आज याद आए कौन न कोई इश्क़ है बाक़ी न कोई परचम है लोग दीवाने भला किसके सबब से हो जाएँ|

AuthorJaved Akhtar
BindingHardcover
EAN9788126722105
EditionFirst
ISBN812672210X
Weight84 g
LanguageHindi
Language TypePublished
Number Of Pages140
Product GroupBook
Publication Date2016-01-01
PublisherRajkamal Prakashan
StudioRajkamal Prakashan
Sales Rank30130
Legal DisclaimerGood quliety

Bestsellers in Indian Writing

Trending Products at this Moment

General information about Laava Success